बीएड के लिए जरूरी होगा NCTE, अधिकारीयों ने बताई यह जानकारी।

बीएड के लिए जरूरी होगा NCTE

एक तरफ देश में जॉब बहुत कम मिल पा रही है वही दूसरी तरफ शिक्षकों की संख्या बढती जा रही है। बीएड करने के बाद छात्र एक शिक्षक के रूप में तैयार हो जाता है। पर एक रिपोर्ट ने यह तय किया है की करीब 28 विद्यार्थियों पर एक टीचर की जरूरत होती है। लेकिन अब देखा जा रहा है की देश में शिक्षकों की संख्या लगातार बढती जा रही है। रिपोर्ट के अनुसार ऐसा इसलिए हो रहा है क्युकी देशभर में शिक्षक प्रशिक्ष्ण करवाने वाली संस्था बहुत ज्यादा बन गई है। इसलिए NCTE को इसमें हस्तक्षेप करना पड़ रहा है।

अधिकारी ने बताई यह बातें

NCTE के अधिकारी सतबीर बेदी ने बताया की अब वह नया नियम लाने वाले है। अब छात्रों को डायरेक्ट बीएड में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। इसके लिए उनसे इंडिया लेवल के एंट्रेस एग्जाम लिए जायेंगे इससे हम एक ही तरीके से छात्रों का अवलोकन कर पायेंगे। इतना ही नहीं NCTE बहुत जल्द ऐसे कड़े नियम लाने वाली है। इससे शिक्षक और शिक्षण संस्थानों पर भी निगाह बनाएगी ताकि भविष्य में अच्छे शिक्षक बन पायें।

लगातार शिक्षकों की गुणवता घट रही है

शिक्षकों की गुणवता लगातार घटती जा रही है, इसकी वजह है की शिक्षक और शिक्षण संस्थान अपना काम सही से नहीं कर रहे हैं। ऐसे में NCTE ऐसा नियम भी लाने वाली है जिसकी मदद से वह उन संस्थानों को बंद कर देगी जो अपना बेस्ट रिजल्ट नहीं दे पाएगी। ऐसा इसलिए क्योंकि ऐसा करने से छात्रों एंव सस्थानो का ध्यान केन्द्रित होगा और वह अपना बेस्ट रिजल्ट देने की कोशिश करेंगे।

शिक्षकों को सीखना होगा पढाने का तरीका

जी हाँ NCTE ने यह साफ़ कर दिया है की अब उन्हें ही शिक्षक के रूप में चुना जाएगा जो अपना बेस्ट देंगे। अन्यथा ऐसे छात्रों को इसमें शामिल नहीं किया जाएगा। ऐसा इसलिए है की आज भारतीय टीचरों की डिमांड विश्वभर में बढती जा रही है और विश्व के स्कूलों में अच्छा प्रदर्शन करें इसलिए अच्छे अध्यापको का निर्माण करना चाहती है NCTE ने अपने नियम इस बार बहुत सख्त किये है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here