यूजीसी नेट रैंकिंग के आधार पर इन छात्रों की नेशनल फेलोशिप की रकम हो सकती है दोगुनी

यूजीसी नेट रैंकिंग के आधार पर इन छात्रों की नेशनल फेलोशिप की रकम हो सकती है दोगुनी
यूजीसी नेट रैंकिंग के आधार पर इन छात्रों की नेशनल फेलोशिप की रकम हो सकती है दोगुनी

सूत्रों के हवाले से पता चला है की यूजीसी पहले की तरह JRF उम्मीदवारों के चयन के लिय दो बार परीक्षा करवाता है उसी तरह इस बार भी करवाएगा पर इस बार अनुसूचित जाति श्रेणी के राष्ट्रीय फैलोशिप के लाभार्थियों की संख्या बढ़ेगी. 

यह पहले 2000 थी इस बार 4000 हो सकती है. पर इस बार बदलाव किया गया है इस बार यूजीसी की NET की रैंकिंग के अनुसार फैलोशिप मिलेगी. पहले यह व्यवस्था सिर्फ एक हजार और दो हजार उम्मीदवारों के लिए थी पर इस बार रैंक के अनुसार इसमें बदलाव किया गया है. 

नेट की परीक्षा नतीजो के आधार पर होगा चयन 

इसबार एक ही चयन व्यवस्था को लागू किया जाएगा, पहले यह व्यवस्था मंत्रायल द्वारा लागु थी पर अब यह बदल चुकी इस बार Net की रैंक के अनुसार सभी का सामान रूप से चयन होगा. इस प्रक्रिया से अनुसूचित जाती के छात्रों की चयन

संख्या में इजाफा होगा एंव एमफिल और पीएचडी करने वाले छात्रों को भी इसका फायदा होगा. पहले के मुताबिक इस बार 4000 तक इनकी संख्या बढाई है.

बढ़ेगा सरकारी खर्चा 

सूत्रों के अनुसार यदि यह व्यवस्था लागु होती है क्योंकि इसे लागु करने के लिए अभी तक अनेक संस्थाओ से एग्री होना पड़ेगा. अगर यह लागू होता है तो सरकार के उपर बोझ और बढ़ेगा एंव सरकारी खर्चो में बढौतरी होगी. इतना ही नहीं आने वाले समय में यह खर्च 300 से 400 करोड़ रूपए तक बढा दिया जाएगा. 

इसी तरह के और भी न्यूज़ पढ़ने के लिए हमसे जुड़े रहे एडुफ़ीवर हिंदी न्यूज़ पृष्ठ पर जाए.

शिक्षा संबंधित यदि आपके मन में कोई सवाल है तो एडुफ़ीवर आन्सर पर पूछिए.

मैं अभिषेक मौर्या, एडुफ़ीवर हिंदी के न्यूज़ और कोर्स संबंधिक आलेख आपके लिए लाता रहता हूँ। मेरे सभी आलेख पढ़ने के लिए यहाँ जाए https://hindi.edufever.com/author/abhishek/ शिक्षा से जुड़े ताज़ा ख़बरों के लिए https://hindi.edufever.com/ लॉगिन करें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here