20 वर्ष बाद अब नॉन इंजीनियरिंग छात्र भी IIT से MBA कर सकता है।

नॉन इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स भी IIT से MBA कर सकता है

अब आप भी इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT) से मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (MBA) का कौर्स कर सकते है। जी हाँ अगर आपके पास इंजीनियरिंग की डिग्री नहीं भी है तो आप MBA कर सकते है। यह छात्रों के लिए 20 सालो के बाद एक सुनेहरा मौका है। जो IIT रूड़की ने अपने मैनेजमेंट प्रोग्राम में नॉन इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स के दाखिले के लिए 20 साल बाद अपने दरवाजे खोले हैं। हालांकि यह अब पहली बार नहीं हो रहा है। लेकीन 20 वर्ष के बाद अब अलग-अलग संकायों (faculties) से स्नातक करने वाले भी आईआईटी रूड़की के MBA प्रोग्राम में दाखिला ले सकते है।

नॉन इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स भी अब दाखिला ले सकता है

सन 1998 में आईआईटी रूड़की के मैनेजमेंट स्टडीज विभाग ने ऐसा पहला बैच शुरू किया था। जिसमे नॉन इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स भी अब दाखिला ले सकते थे। इसके बाद 1998-2000 बैच में कुल 57 स्टूडेंट्स थे। जिसमे से 7 स्टूडेंट्स विदेशो के थे। लेकिन इस बेंच में जहां 25 इंजीनियर थे, वहीं बाकी के 32 स्टूडेंट्स साइंस,  मैनेजमेंट,कॉमर्स, आर्ट्स और फार्मेसी, होटल मैनेजमेंट, एग्रीकल्चर, होम साइंस जैसे संकायों से स्नातक की पढाई पूरी कर के आये थे।  लेकिन इसके बाद अब 20 वर्ष के बाद यह अलग-अलग संकायों से स्नातक करने वाले भी आईआईटी रूड़की के MBA  प्रोग्राम में दाखिला ले सकते है।

पुराना नियम अब क्यों किया जा रहा है

20 साल बाद आईआईटी फिर से वही पुराना नियम शुरू कर रहा है। इस बारे में आईआईटी रूड़की के निदेशक अजित के. चतुर्वेदी का कहना है। कि ‘हमें लगता है, कि आज के समय में इंडस्ट्री के लिए अलग-अलग बैकग्राउंड्स के स्टूडेंट्स को नियुक्त करना जरूरी हो गया है। ऐसे में आईआईटी रूड़की की ये कोशिश इंजीनियरिंग से अलग अन्य बैकग्राउंड के अभ्यर्थियों को शिक्षा देकर स्किल्ड कैंडिडेट की मांग पूरी कर पाएंगे। यह सत्र जुलाई में शुरू हुआ है। इसका लक्ष्य यह है की इस शैक्षणिक सत्र में ऐसे चार स्टूडेंट्स ने आईआईटी रूड़की के एमबीए प्रोग्राम में दाखिला लिया है जो इंजीनियरिंग बैकग्राउंड से नहीं हैं। यह बैच की कुल संख्या का 10 फीसदी है। यह सत्र जुलाई में शुरू हुआ है। छात्र व छात्राओं के अनुपात को बेहतर करना है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here