मास कम्युनिकेशन क्या है? एडमिशन, स्कोप, करियर और मिलने वाली नोकरियो की पूरी जानकारी इत्यादि।

मास कम्युनिकेशन से रिलेटेड टॉपिक, मास कम्युनिकेशन

प्रस्तावना:- जन संचार कोर्स के माध्यम से लोग जनसंचार के क्षेत्र में जा रहे हैं। और यह क्षेत्र ज़्यादातर स्टूडेंट अपना रहे हैं। क्योंकि इस क्षेत्र में कमाई और नाम दोनों है। जन संचार कोर्स के माध्यम से आप ये सीखते हैं कि कैसे एक ही समय में संचार किया जाता है। अधिकांश सूचनाएं आमतौर पर अखबारों, किताबो, पत्रिकाओं, वेबसाइटो, ब्लॉग, रेडियो, फिल्मो और टेलीविज़न का उपयोग कर स्थान्तरित की जा सकती है। यह कोर्स उन छात्रों के लिए उभरते केरियर क्षेत्रो में से एक है जो इसे अपने उच्च करियर के रूप में चुनते हैं। और वे ऊंचाइयों को छू जाते हैं।

जन संचार की पूरी जानकारी –

जन संचार कोर्स की अविधि स्नातक डिग्री में तीन साल की होती है। इस कोर्स के माध्यम से आप आमतौर पे विज्ञापन, संचार कौशल, जनसम्पर्क, मनोज्ञान, समाजशाश्त्र, राजनीती विज्ञान, मीडिया साक्षरता और सामाजिक मीडिया के प्रकार पर छूने वाले उन पाठ्यक्रमो सहित विभिन्न प्रकार के पाठ्यक्रमो को पढ़ते हैं। अगर आपको लेखन का शौक है और आप चीज़ों और बातो को प्रभावी ढंग से पेश कर सकते हैं और आप चुनोतियों और समस्याओं का सामना कर सकते हैं, और आपके पास उत्कृष्ट संचार कौशल है। तो आपके लिए ये करियर बहुत बेस्ट है। और आप इस क्षेत्र में ऊंचाइयों को छु सकते हैं।

जन संचार कोर्स में एडमिशन के लिए छात्र की योगयता –

  1. मास कम्युनिकेशन कोर्स स्नातक पाठ्यक्रमों में भाग लेने वाले छात्रों को किसी भी बोर्ड से कक्षा बारहवीं के सफल समापन की आवश्यकता होती है। क्योंकि जन संचार कोर्स में एडमिशन के लिए कक्षा 12 पास होना अति आवश्यक है।
  2. कुछ जन संचार विश्वविद्यालय और कॉलेजों में कक्षा 12 वीं के अंकों के आधार पर छात्रों को प्रवेश करते हैं। क्योंकि सभी जगहों के जन संचार विद्यालयों के अलग अलग नियम हैं।
  3. मास कम्युनिकेशन कोर्स  विज्ञान / कॉमर्स / आर्ट्स कोई भी कर सकता है| ये एक सामाजिक करियर है इसमें आपको कोई अलग से या स्पेशली डिप्लोमा करने की ज़रुरत नही है। बस आप कक्षा 12 पास ज़रूर हों।
  4. एंट्रेंस (योग्यता) परीक्षाओं में किए गए अंकों के आधार पर भी आप विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश ले सकते हैं| जिसमे आपको फीस की कुछ प्रतिशत छूट मिल जाती है।
  5. कुछ  कॉलेजों में प्रवेश लेने के लिए प्रवेश परीक्षा करवाई जाती है| जिससे उन्हें पता चलता है कि छात्र जन संचार कोर्स में एडमिशन लेने के लिए कितना योगय है और कितना नहीं है।

भारत में जन संचार कॉर्स के लिए कुछ टॉप कॉलेज –

अधिकांश छात्र जल्द जन संचार में जॉब पाने के लिए टॉप से भी टॉप कॉलेज में जाते हैं, और वो वास्तव में पास होकर जन संचार में जॉब प्राप्त कर लेते हैं। तो आपके लिए भी भारत के कुछ टॉप कॉलेज निम्नलिखित हैं।

जन संचार और पत्रकारिता के बीच अंतर –

जब हम “पत्रकारिता” के बारे में बात करते हैं तो इसका मतलब है कि मुद्रित लेख, ब्लॉग, और टेलीविज़न सहित विभिन्न माध्यमों द्वारा जानकारी पेश करने का एक तरीका है। जबकि पत्रकार एक ऐसा व्यक्ति  होता है जो सूचना के लिए खोज, संपादन, लेख लिखने और प्रस्तुत करने के सभी कार्यों को करता है यहाँ तक की उसको कई समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है, इस प्रकार हम कह सकते हैं कि पत्रकारिता जन संचार का एक अभिन्न अंग है|

मास कम्युनिकेशन कोर्स में पढाई जाने वाली महत्वपूर्ण पुस्तके-

अब बात करते है किताबो की तो हिंदुस्तान में सरकार द्वारा अधिकांश किताबो को सस्ता कर दिया है जिससे अब छात्रों को पढ़ाई करने में कोई समस्या नही हो रही। इसी तरह की जन संचार की कुछ महत्वपूर्ण किताबे निम्नलिखित हैं:-

  1. Mass Communication in India (4th Edition) by Keval J. Kumar
  2. Mass Media And Communication In Global Scenario by Ratnesh Dwivedi
  3. Cases in Communications Law by John D Zelezny
  4. Media Planning: A Practical Guide by Jim Surmanek
  5. Introduction to Mass Communication: Media Literacy and Culture by Stanley J. Baran
  6. Mass Communication Theory: Foundations, Ferment, and Future by Stanley J. Baran
  7. Media Planning: A Practical Guide by Jim Surmanek

Mass Communication के बाद करियर और स्कोप –

जन संचार की पढ़ाई पूरी करने के बाद

  • जन संचार में अपनी डिग्री पूरी करने के बाद, आप रिपोर्टिंग, लेखन, संपादन, प्रसारण या केबल कास्टिंग समाचार जैसे और कई अन्य समान कार्य प्रोफ़ाइल जैसे विभिन्न क्षेत्रों में काम कर सकते हैं। पत्रकारिता के दो प्रकार होते हैं जिसमें आप काम कर सकते हैं,पहले एक प्रिंट जर्नलिज़्म और दूसरा इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता है|
  • प्रिंट पत्रकारिता में आप अखबारों, पत्रिकाओं में नौकरियों का लाभ ले सकते हैं|
  • संपादक, संवाददाता, स्तंभकार, संवाददाता आदि के रूप में काम कर सकते हैं। जोकि अधिकांश लोग यही करते है।
  • इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता में आप रेडियो, टेलीविजन और वेब के लिए काम कर सकते हैं।
  • आप पत्रकारिता में अपना कैरियर बना सकते हैं, जो एक उच्च वेतन और प्रतिष्ठित व्यवसाय है।
  • विभिन्न स्रोतों से विभिन्न समाचारों को इकट्ठा करने में दिलचस्पी रखने वालों के लिए सबसे अच्छा काम है|

जन संचार के बाद जॉब प्रोफाइल –

जन संचार का कोर्स करने के बाद आपके लिए मुख्या जॉब प्रोफाइल

  1. टीवी एंकर(TV Anchor)
  2. समाचार संपादक(News Editor)
  3. वरिष्ठ पत्रकार(Senior Journalist)
  4. जूनियर पत्रकार(Junior journalist)
  5. स्क्रीन लेखक(Screen Writer)
  6. बड़े पर संपादक(Editor at large)

जन संचार कोर्स के बाद सैलरी –

जन संचार का कोर्स करने के बाद आपको आपकी सैलरी आपकी योगयता पर निर्भर करती है। जैसे अगर आप सवांददाता और या समाचार रिपोर्टर के रूप में शुरू कर सकते हैं तो आपकी सैलरी 10,000 रूपए से 20,000 रूपए प्रति माह तक हो सकती है। और आगे चलकर कुछ अनुभव के बाद आप एंकर या संपादक के रूप में काम कर सकते हैं जिसमे आपकी सैलरी 25,000 रूपए से 40,000 रूपए प्रति माह तक हो सकती है। और यदि आपको इससे भी अधिक अनुभव तो आप 50,000 रूपए प्रति माह से ऊपर भी काम सकते हैं। अगर आप जल्द ही अनुभव प्राप्त कर लेते है तो आपको जॉब लगने से कोई नही रोक सकता है।
मास कम्युनिकेशन से सम्बंधित यदि आपके मन मैं सवाल है तो हमारे क्वेश्चन आंसर कम्युनिटी Answers.edufevr.com पर पुछ सकते हैं।

मास कम्युनिकेशन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण प्रश्र

प्रश्न: मास कम्युनिकेशन कितने वर्ष का होता है?

उत्तर – 3 वर्ष का होता हैं।

प्रश्न: मास कम्युनिकेशन के लिए इंग्लिश ज़रूरी होती है।

उत्तर – बिलकुल भी नहीं, ये आप पर निर्भर करता है की आप कोनसी भाषा में जाना चाहते है, भारत में ज़्यादा तर हिंदी भाषा को चुनते है और उसी में ग्रेजुएशन करते है।

प्रश्न: बैचलर ऑफ़ जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन के लिए 12वी में कौनसा सब्जेक्ट ले।

उत्तर – यह कोर्स करने के लिए आप किसी भी स्ट्रीम से 12वी पास किये आप इसमें आराम से अड्मिशन ले सकते है।

शुभकामनाये!!

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here