अब हर साल मिलेंगे विद्यार्थी को 3000 रूपए, UP Board, CBSE और ICSE के स्टूडेंट करें अप्लाई

    अब हर साल मिलेंगे विद्यार्थी को 3000 रूपए
    अब हर साल मिलेंगे विद्यार्थी को 3000 रूपए

    Application Form 2020


    यूपी और देश के अन्य राज्यों में भी स्कूलों में छात्रवृति देने का प्रावधान सरकार ने बना रखा है. ऐसे में उन बच्चों को पढने में साहयता होती है जिनके माता-पिता की कमाई बहुत कम होती है. ऐसे लोगों के बच्चे स्कूल में छात्रवृति के सहारे पढ़ सकते हैं. पर हाल ही में UP बोर्ड, सीबीएसई और ICSE के स्कूलों ने अभी तक अपना डाटाबेस दर्ज नहीं किया है, जिसके चलते स्टूडेंट का ब्यौरा सरकार तक नहीं गया है. और इस बार छात्रवृति लेट भी हो सकती हैं. स्कूलों को डाटाबेस सबमिट करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई तक कर दी गई है. ताकि स्कूल अपना डाटा दर्ज करा पायें 

    हर स्टूडेंट को मिलेंगे 3000 रूपए

    सरकार 9वीं और 10वीं के उन गरीब छात्रों को 3 हजार रूपए छात्रवृति के अनुसार देंगे जिनके माता-पिता की इनकम 2 लाख से कम है. ऐसे छात्रों को सरकार 3 हजार रूपए देगी, इतना ही नहीं जिन छात्रों की SC/OBC में अगर किसी छात्र के माता-पिता की कमाई 2.5 लाख रूपए है फिर भी उसे छात्रवृति दी जायेगी. सरकार के अनुसार इस बार बहुत से स्कूलों ने अपना डाटा दर्ज नहीं किया है.

    पढने में मिलेगी मदद

    सरकार के अनुसार इस नियम की मदद से बच्चों को पढने में मदद मिलेगी और जो गरीब तबके के लोग है वो अपने बच्चों को पढाने के लिए आगे आयेंगे. ऐसे लोगों के बच्चे अगर पढ़ लेंगे तो उन्हें अपना भविष्य बनाने में प्रॉब्लम नहीं आएगी. इतना ही नही सरकार 10वीं में अच्छा प्रदर्शन करने पर छात्र को और साहयता राशि भी देगी. 

    अगर 31 जुलाई तक नहीं हुआ डाटादर्ज तो नहीं मिलेगी छात्रवृति

    सरकार के अनुसार यदि कोई स्कूल 23 जुलाई तक भी अपना डाटा सबमिट नहीं करता है तो उस स्कूल के छात्रों को छात्रवृति से वंचित रख दिया जाएगा. इसलिए उन स्कूल से विनती की जाती है जिन्होंने अभी तक डाटा दर्ज नहीं करवाया है वो करवाएं ताकि उस स्कूल के छात्रों के भविष्य उजागर हो पाए. 

    सभी तरह के लेटेस्ट स्कॉलरशिप न्यूज़ पाने के लिए यहाँ क्लिक करें: स्कॉलरशिप अपडेट

    Application Form 2020


    blank
    एडुफ़ीवर स्टाफ़ https://hindi.edufever.com के कांटेंट मैनज्मेंट टीम का हिस्सा है। शिक्षा और करीयर से जुड़े आर्टिकल हिंदी में पढ़ने के लिए हमारे साथ जुड़े रहें।

    कोई जवाब दें

    Please enter your comment!
    Please enter your name here